Subscribe now to get Free Girls!

Do you want Us to send all the new sex stories directly to your Email? Then,Please Subscribe to indianXXXstories. Its 100% FREE

An email will be sent to confirm your subscription. Please click activate to start masturbating!

माँ बीटा और सेक्स मालिश

मुझे समिट कहा जाता है। मुझे अभी तक येकेन नहीं हुई थी जो मेरी पसंद करते हैं।
3 दिन पहले अकेले अनुभव अनुभव हुआ
जो माई सुच भी नं सक्ता था।
हू यूं की मर्गी गरीब परिवार (मेरे पास एक संयुक्त परिवार है) क्या शादी पे करते हैं
लिय चली
Gayee। घर सरप पिता, मुमी और माई था। सुभाष पिता भी कार्यालय चलते गेये
मिमी कामवाली के साथ काम कर लेगे और मेरी आंखें कामरे माई अध्ययन करने वाला
गया।
कैरीन धोखेर एक बजे कामवली चली समलैंगिक माई अध्ययन कर तुझे कह की मुगल
के आज़ अनी माई कामरे के घर जाने के लिए
रेखा के मुमी फरश पर गरी पाडी था। मेन फोर्न जाकर मिमी को उथैया
और पापा “क्या हुआ”

“फरश पर पाण पडा था, मैने देख नहीं और जीर समलैंगिक”
“चट टू नाहि लेगे”
“तांग कीचड़ समलैंगिक”
“हल्दी वाला दो पी लो लो”
“नहीं, यूएसकी जरूरत नहीं। बस तांग में डर्ड हो रहा है, लगटा है नास पे नस
चाड गायी है “
“थाडी डेर देर जॉय”
“मुंजा चाला ना जायेगा राह, मुझ बसा ही कामरे चक आ”
“आराम से दिव्य जय हो और अब कोई काम करो जो ज़रूरत नहीं है”
“है फिर, कभी भी कभी नहीं जान राही”
“माई कुचरे डब्बा डू क्या”
“डब्बा डे”
मैने तांग दबानी शूरू की माई पुरी तांग दब्बा थोरा था, प्रति सेक्शन जांघ
तक

“कुछ अरम मिल राहा है?”
“हन्ना”
“केवल खयाल से आप को थाडो फोन लागा लो, जल्दी आर्मा मिल जाए”
“कोन्सा टेल लैगून”
“जो हाई, जो शरीर तेल मात्र पास है”
“चाल ले आ”
माई अपन कामरे से जकर टेल ले आये मिमी ने अपनी सलवार ओपार उथ ली लीकिन वो
घुटने से ओपर नहिन यूथ देनदार मेन कप
“अगर आप आपराज़ न हो तो मुख्य हायगा दोओन”
यह मेरे फोन की घंटी बजती है फोन पे पाप ने कहता है वो खन्ना खाणे
नहीं है अनायसे
“किस्का फोन था”
“पापा का था कि वो खाना नहीं आया आ रहा है”
“एचा”
“टेल लागा डोन?”
“लैगा डे”
फिर मैने मिमी के से से लीकर घुटने तक तेल लगाना शूरु कर दिये
कुरबेर मुडम बाली
“पार डर्ड टू मात्र घुटने के ओपर हो गया है”
“एक काम कर है आप ताओं के ऊपर कंबल (कंबल) करो, माई कंबल के औरार
हाथ दाल के आप ने जांघ की मौलिस कर डोंगा “
“माई ख़ुद ही कर लोंगी”
“मै एक एक बार ही तुम्हारे हैं आप आधा जलती मिल जाए”
“अल्मारी से कंबल निकल के मैं ही कर कार”
मैने मिमी के ऊपर कंबल कर दि
फिर मैने कंबल के औरार हाथ दाल के मम्मी की सलवार का नादा खोला और सलवार
घुटनो के नेहे सरकार माँ ने अपनी आंखें बैंड करली मेन मम्मी की
जांघ पार दूरगीन शूरु किया। Oooooh। मम्मी की जांघ लग रही है बहुत संवेदना था।
“माँ कहां तक ​​लगोन टेल”
“बेते थोडा दूरभाष जांघ बराबर”
मैने माँ की आंतरिक जांघ पार दूर लगाना शरु की टिफ़ माँ की अपी तांगे
thodi
चौड़ी करली
माई तकली मल्त हुई बात करो अपन हाथ मम्मी की पेंटी और चुट के पास जाते हैं।
माई कंम्बल में मुझे कुछ भी जाना और मम्मी की ताड़ें अपनी कमर की ओर पे रख की दूर
लागता अभी
“मम्मी, अगर आप ही देर हो जाए तो मइ पचे से भी फोन करना चाहते हैं”
“Achaa”
“माँ सलवार का कोई काम नहीं है, आईटीआवर करो”
“नहीं, खोले घुटनो (घुटने) तो सरका डे”
“Achaa”
फिर माँ की पालतू के बाल देर हो चुकी हैं
एबी माई माँ की डो डो तांगो बीच में मेरे हाथ था
“मम्मी कुछ आलम मिल राहा है”
“हम्म”
“ममुय एक बाट बॉलून”
“एचएम?”
“एपीकी जांघों कोमलताई तारह ​​सॉफ्ट है”
मम्मी बराबर है न ही बूली। मेन टेल मम्मी की हिप पर लगना शूर कर दीया
“मम्मी अप्की हिप को चुओ के …”
“चुन के क्या?”
“कुछ नहीं”
“बटा ना चुन के लिए?”
“एपीकी कूल्हों को चुन के दिल में है है कि अंदर चूटा और मसलता जौन” एपीकी जांघों और
कूल्हों बहुत चिकी हैं दूर से भी ज़्यादा चिनी माँ की अपी कम वर भीनी ही
चिनी है? “
“तुझे नहीं पटा? खुद हू देख ले “
“मम्मी आप पेहल जैसे पेठ के बाल ला जाने”
“ठािक है”

फ़िर मुख्य मुमी के पालतू और काम पर हाथ फेर लागा
“बीट ए अब माई बहत मोती होती जा रहि हुन, है ना?”
“नहीं मम्मी, आप पेहल से जया सेक्सी लैगेन लेज हो?”
“क्या लगने लागी हू?”
“कामुक”
“बीट सेक्सी का क्या matlab गरम है?” (मेरी माँ हिंदी माध्यम से है)
“सेक्सी का matlab गर्म है कामूक”
“सखी, माई तुझे भगवान लगी हूं?”
“हां, मम्मी मैने आज तक इटनी चिकनी हिप नहीं दीखी,
क्या मैआपकी कूल्हों के पे चुंबन सक्द है? “
“क्या”
“कृपया माँ, बस एक बार”
“पर कैसी को बटाना चटाई”
“बिल्कुल नहीं बटौन्गा”
माई मम्मी की कूल्हों के पे चुंबन लग गया और जीभ से चेतने भी जाना
“बीट कंबल निकल डे”
मैने कंबल निकल दीया
“माँ आपकी हिप के सेमन को अमुल बटर भी बकर है”
“Achha”


“मम्मी मै एक एक बार आकी धुनी (नाभि) पे चुंबन करना हुआ है”
“नहीं, टूनो कूल्हों पे कहां और वो भी मैने कर्ने दीया और टूओन टू यूसेज चट भी
है, अब और नहीं “
“कृपया माँ, जब हिप पे ली लाई टू धुनी (नाभि) से क्या दूर पाता है?”
“क्या इसे करने के लिए क्या बात है?”
“माई टू आपकी जांघों को भी चूमना चहाता हूं, आपकी जांघों की आकार की चुंबकी को भी
लालची सक्ति है, आपी कछी (पेंटी) आपकी काम करते हैं और तरेथ फिट हो
है के मई बटा नहीं sakta, आापी जांघों को देख कर केवल mooh में पानी आ रहा है
है, क्या मैआपकी जांघों से भी मुझे चुंबन होता है? “
“पिता नाहिन टूनो मुजिम ऐस क्या देख लीया है, हम डोनो जो भी कर्नेज सरफ अाज
कैरेन्ज और हमारा के बारे में चर्चा करते हैं बी हाय नहीं कैनेज, वादा? “” वादा … … माँ माँ आापी सलवार निकल डोन? “” हम्म्म् … निकल डे “ए मम्मी बिना सलवार की थी। पर माई मम्मी की धीुन को चटने लगें। माँ ने अपी आंखें बैंड करली.पर माई माँ की जांघों को दबाने, चीने और चाटने लगा। फिर मैने एककुमपंथी के ओपार से ही मम्मी की चुट का लीया “अहा.बेटा..उशुसशह्ह्ह्हह..यह क्या..छाहा लैग अभी है” “मम्मी मेरी आओ चक चकना चहाता हूं” “क्या चाँद चहाता है?” चुट ” क्या कसता है? “” कुम की बेटून? “” बाटा “मैने फिरस पैन्टी के ऊपर से मम्मी की चुट को चुमा। माँ ने कहा “अहाह्ह्ह्ह्ह्ह्ह … ..इईएसेएसएससस्एसएसएसएस … बीटा मेरी चुट को थीदा और चुम” “कही किओपार से ही?” “नहीं, कही निकल डे” माँ की इस्तना किन्हे की थी थीं मेई कछी निकल दी और माँ की चुट को चटना शूर कर दीया इममी सिस्केने लेगे “ईएसेसेशह्ह्ह … एआअआअह्ह्हः बीटा.बहूत आनंद है। मेर चुट पे तिरी जीवाका स्पर्ष काम का कमाल का हूँ है है” मइ कुच देरे मुम्मी की चुट चट था। आईने सब हंस के लिए मेरे लॉंडिया तिवारी था “मम्मी अब मेरा प्यार हो गया है,” “लोडा क्या हुआ है है” मैने एपाने पंत के लिए अपना लोडा माँ के साथ तुझे दिये और बोला “मम्मी ईश्ते हैं लोडा” “हे मै ..तु इटना गाण्ड काब से पर गया की आपा ये … क़ै नाम बटाया टूनो इंक “” लोडा “” हैन.लोड.एफ़ा लोडा अपनी ही माँ के साथ तुझे दे “” माँ मेरा लोडा मेरी म ch चातु के लिए म machल क्या है “” लेकिन बीटी माँ की चुट में मुझे अपने बेते का लोडा नहीं हो सक्खा “” लेकिन क्योँ माँ? “” कूकी ये पाप है “” क्या तू क्या है? ” “” मेरी तेरी माँ हुन “” मेरी माँ हू से तेहेतु क्या है “” इंसान “और हमारे मुलाक़ंद?” एक एकर “” बस, सब्से फेहेल तू एक ही है और मेरी एक मर्ड, और एक मर्ड का लोर्ड आयु क्या चुटमेइन नहीं हैंसस को कहां घूसगा “” लेकिन … “” क्या माँ, जब मेरा तेरी चुट तो चाट ली है कि क्या तुझे नहीं होता “चोड मटलाब?” “मैटल अपने लोडा तेरी चुट में” “तू मेरी चिक चहे किटनी हाय चीट ले, मेरे चटवायेन में हामज़ा आ रहा है “” मुझे चुदाई में जो आनंद और वो और मेरी चीईज़ में नहीं है “” तुम जाँत नहीं है मेरी चतुर वक्ता लाईड की भूखी है .पर कहानी बच न हो गाये “” नहीं माँ , माई अपना माल तेरी चुट में नहीं गिरोंगा “” वादा “” अपनी मा कि बेकरर चुट को थीं कर दे ना, बेते मेरी कुट्ठों में बुज डे ना “फेहेल टू बैत जा” “ले बेठ गेई” “” अब तू केवल लाइड पे बेठ जा “फिर माँ ही लाउड पर बेते समलैंगिक और माइन ढेके मार्ने शूरु कर दिये” ओहूू … … बीट … … हह्ह्ह्ह्ह्ह “ओह ओहमा। तेरी चुट को तंग है “” ओहुओओह्ह्ह्ह्ह्ह … .एपनी बेते जेईईये ही राखी है “” हां..माता कि चुट बट्ट के काम नहीं नहीं आयेजगी टू किस्के काम आयेगी “” ओउडू … मेरा प्यारा बीटा..मेरा अच्छा बीटा..और जरूर लागा “” ऊह … मेर आई मटिनी आखी है “फिर मइ और मम्मी चुडाई के साथ साथ फ्रांसीसी चुंबन भी कर रहे हैं” ओहुहोउ.मा मेरे माल निकलाने वाला है “” मेरा भी “” करून एपन लाउन्ड को तेरी चुट से अलाग? “” नाहि .. नाहिनी.प्लेशे। चोदा रिह लाईड मीन मेरी चुट की जान है “” और तेरी चुट में विनम्र लाउड की जान है “” आआआआआआआअहेह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह …… ओहूहोउ हूउहुओ “

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. .