नेपालन मजदुर की चुदाई

0
769

नेपालन मजदुर की चुदाई

पेशे से मैं किसान हूँ | दोस्तों मैं नेपाल बॉर्डर वाले इलाके में रहता हूँ | मेरे ढेर सारे खेत हैं और उनमे मैं गन्ने की खेती करता हूँ | मेरे खेत में काम करने के लिए अक्सर नेपाल से मजदुर आदमी और औरते आती रहती हैं | एक बार की बात है | मेरे खेतों में घास उखाड़ने का काम चल रहा था और उसके लिए मैंने २ मजदुर औरतें लगा रखी थीं | खेतों में ही मोटर बनी थी और एक कमरा भी था जहाँ मैं अक्सर दिन में पड़ा रहता था | एक दिन दोनों में से बाद एक ही औरत आई तो मैंने पूछा की दूसरी कहाँ रह गयी | उसने बताया की उसकी तबियत ठीक नही है इसीलिए आज वो नही आएगी | मैंने कहा ठीक है | फिर वो काम पर लग गयी | मैं उसी कमरे में लेटा था | बोर होने से बचने के लिए मैंने अपने फ़ोन में सेक्स स्टोरी पढनी शुरू कर दी | इतनी सेक्सी सेक्सी कहानियां पढ़ के मेरी अन्तर्वासना जाग गयी और मेरा लंड खड़ा हो गया | मैंने सोचा की वो तो बाहर काम कर रही है इसीलिए लंड बाहर निकाल लिया और सहलाने लगा | अचानक से वो मजदुर औरत दरवाजे पर आ गयी | दरवाजा अन्दर से बंद नही था इसीलिए उसने दरवाजा खोल दिया | इससे पहले की मैं अपने लंड को छुपा पाता, उसने सब कुछ देख लिया था | वो शर्मा कर बाहर चली गयी | मैंने उसको आवाज दी तो वो आई | अभी मैंने चादर से अपने लंड को छुपा रखा था | मैंने उसे अपने पास बुलाया और बैठने को कहा | वो बैठ गयी | अब मैंने उसके सामने जान बुझकर चादर हटा दी और लंड दिखाने लगा | वो उठकर जाने लगी तो मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और बोला की क्यूँ शर्मा रही हो, आओ थोड़ी मस्ती करते हैं | मुझे भी मजा आएगा और तुम्हे भी आज अकेले काम नही करना पड़ेगा और मजदूरी भी मिलेगी | थोड़ी न नुकुर के बाद वो मान गयी |

अब मैंने उसको लिटाया और उसके कपड़े उतारने शुरू कर दिए | मैंने उसको पूरी तरह नंगा कर दिया और उसके दूध दबाने लगा | उसके दूध मस्त थे और कसे थे | उसके निप्पल बड़े बड़े थे | मैंने उसको अपना लंड हाथ में दिया और चूसने के लिए कहा | पहले तो उसने मना किआ लेकिन फिर मान गयी | वो मेरा लंड बड़े कामुक अंदाज में चूस रही थी | मैंने उसके बाल पकडे और उसके मुंह को अपने लंड से चोदने लगा | एक बार तो ऐसे लगा की उके गले तक मेरा लंड पहुँच गया है | उसके मुंह से गप गप्प पपप प पप पपप गप ग्ग्प गप पप पप प पप पप ग ग गग ग गग गग्ग पप प प प की आवाज आ रही थी | काफी देर तक वो मेरा लंड चूस रही थी | अब मैंने उसके मुंह से अपना लंड निकाला और उसकी चूत को फैला कर उसमे डाल दिया | उसकी चूत कसी सी थी | वो चिल्ला पड़ी और निकलने के लिए कहने लगी | वो उई इ ईई ईई ईई मर गयी ऊ ई इ ईई ई इ ई ई ईई ईनिकालो उईइ ईईइ इ ईई इ ई ईईइ ईई ई इ मर गयी मैं आह्ह ऊऊउ उ ईईइ इ ई इ ई ईई ई इ ई इ करने लगी | मैंने निकला नही और चोदने लगा | वो और जोर जोर से चिल्लाने लगी और आः आआअह्ह हह ह ह्ह्ह हह ह ह्ह्ह्हह होह ह्ह्ह ह्ह्ह्ह हह ह ओह ह्ह्ह हह ह ह्ह्ह्ह हह हह उ ह हह ह्ह्ह ह्ह्ह ह ह्ह्ह्ह ह्ह्ह ह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह हह हह हह ह ह ह ह्ह्ह हह ह ह हह ह्ह्ह ह ह ह्ह्ह्ह हह ह हह हह ह ह ओह ह ह्ह्ह्ह ह हह ह हह आःह्ह्ह हह ह हह हह ह हह उ उई इ ईई ई ई ईई ईई इ ईईइ इ इओ ऊ ओ ओह्ह ह ह्ह्ह ह ह ह्ह्ह ह हह ह ह्ह्ह्हह ह करने लगी | मैंने चोदना शुर कर दिया था | अब मैंने उसको घोड़ी बनाया और फिर जोर जोर से उसकी चूत की चुदाई करने लगा | अब उसे मजा आने लगा था और मस्ती से चुद्वाते हुए आआआअह ह हह ह हो हह ह हह ह ह्ह्ह्ह ह ऊ उ ऊऊउ ईईइ ईईइ इ ई इ ओ हह ह ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह ह्ह्ह हह हह हह ह उई हह ह्ह्ह हह हह ह्ह्ह हह ह ओह ह हह हह हह आह्ह ह हह ह ह ह्ह्ह ह ह्ह्ह हह करने लगी | अब मैं झड़ने वाला था | मैंने उसको चूत से अपना लंड निकाला और उसके पेट पर अपना माल निकाल दिया | उसकी सेक्सी बॉडी देखकर मेरा मन अभी भरा नही था | मैंने उसके दूध सहलाने लगा | वो अपने पेट पर पड़ा मेरा माल साफ़ कर के फिर से लेट गयी |

[irp]

अब मैंने फिर से उसके साथ में अपना लंड पकड़ा दिया और उसे मेरे लंड से साथ खेलने को कहा | उसने वैसा ही किआ और वो कभी मेरे लंड को सहलाती तो कभी मेरे टट्टे पर उँगलियाँ फेरती | अब उसने मेरे लंड को साफ़ करके उसे चूमना शुरू कर दिया | बीच बीच में वो मेरे टट्टे भी चूस ले रही थी | अब मेरे लंड में जोश आने लगा था | मैंने उसके दूध दबाने शुरू कर दिए | थोड़ी देर बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो चूका था | मैंने अब उसको पीछे पलट दिया और बोला की अब तेरी गांड की शामत आने वाली है | उसने साफ़ मना कर दिया और बोली की वो गांड नही मरवाती | मैंने उसे काफी समझाया मगर वो नही मानी | फिर मैंने उसे पैसे का लालच दिया तब जाकर कहीं वो मानी |

अब मैंने उसकी गांड को फैलाया और उसमे सरसों का तेल लगाया | अपने लंड पर भी मैंने सरसों का तेल लगा लिया | अब तेल के डिब्बे को साइड में रख कर मैंने उसकी गांड के छेड़ में एक ऊँगली घुसेड दी | वो चिल्ला पड़ी और ऊऊऊ उ ऊ ऊ ऊ ऊऊ ऊ ऊऊ ऊ ऊऊउ ऊ इ इ इ ईई ई ई इ ई ई ई इ ई ईई ईईईइ इ आह ह्ह्ह्ह ह ह्ह्ह ह्ह्ह्ह ह हह ह हह ह्ह्ह ह्ह्ह हह ह करने लगी | मैंने अब धीरे धीरे एक ऊँगली से उसकी गांड को चोदना शुरू कर दिया | वो दर्द को झेलते हुए मेरी ऊँगली अपनी गांड में ले रही थी | मैंने अब दो उँगलियाँ घुसेड दी तो उसकी चीख और बढ़ गयी और वो आह्ह्ह हह ह्ह्ह ह ह्ह्ह हह उह हह ह ह्ह्ह्हह ह ह्ह्ह्हह ह ओह ह ह हह ह हह उ ऊ ऊऊउ उ इ ई इ ई ई ई ईईई इ ई इ ई ऊ ह ह ह हह ह्ह्ह ऊ ओ ऊ ओ ऊऊ ऊऊओ ऊऊऊओह्ह हह हह ह हह ह ह्ह्ह्हह ह ह्ह्ह्ह उह्ह ह ह हह ह ह्ह्ह ह्ह्ह्हह ह्ह्ह्हह्ह हह ह्हूऊ उई इ इ इ ईई इ इ ईईइ ईईइ करने लगी | मैंने थोड़ी देर तक उसकी गांड को उँगलियों से चोदा और फिर अपना लंड टिका दिया | मैंने बहुत हलके से धक्का दिया तो मेरा लंड घुस ही नही रहा था | उसकी गांड बहुत ही टाइट थी | मैंने जोर से धक्का दिया तू इस बार मेरे लंड का टोपा घुस गया | वो उछल ओदी और रोने लगी | उसकी आँखों से सच में आंसूं आ गये | मैंने लंड निकला और उसके चूतडों को सहलाने लगा | जब वो शांत हुई तो फिर से मैंने उसकी गांड के छेड़ पर अपना लंड टिकता और इस बार और जोर से धक्का दिया तो इस बार मेरा आधा लंड उसकी गांड में चला गया | उसकी गांड इतनी टाइट तजी मेरे लंड में दर्द होने लगा था | मैंने बड़ी मुश्किल से और जोर से धक्का दिया और अपना पूरा लंड उसकी गांड में घुसा दिया | वो लगातार रोये जा रही थी | मैंने लंड निकाला नही और उसेक दूध सहलाने लगा | जब वो थोडा शांत हुई तो मैंने धीरे धीरे उसकी गांड को चोदना शुरू कर दिया | वो दर्द को झेल नही पा रही थी और लगातार आःह्ह ऊऊ ऊऊउ इ ईई ई अह्ह्ह्ह हह मर गयी मैं आःह हह ह ह्ह्ह्ह ह हह ह ह ह्ह्ह्ह ह ऊऊऊउ उई इ ईई ई इ इ ओह हह हह ह हह ओ हह ह ह हह ह ह हह ह ह्ह्हह्ह्ह्ह ह हह ह्ह्ह ह ह ह मार डाला आःह हह ह ह हह ह हह हहू ह ह हह ह ह ऊ ऊ ऊऊ इ ई ईई इ ईईईई ई ईईइ इ इ इ ई ईईई ओ ह हह ह्ह्ह्हह ह्ह्ह्ह ह ह्ह्ह ह्ह्ह हह ह्ह्ह्हह ह हह्ह्ह हह ह ह ह्होह्ह्ह ह हह ह्ह्ह्ह ह उह हह ह ह हह करने लगी | करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद मैं झड़ने लगा तो मैंने उसकी गांड में ही अपना सारा माल छोड़ दिया |

[irp]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. .